Rahat Indori Shayari In Hindi – Rahat Indori Shayari

Rahat Indori Shayari In Hindi के इस पोस्ट में Rahat Indori Shayari के सारे fans का स्वागत है.  Rahat Indori Shayari की दुनिया के वो सितारे हैं, जिनकी चमक कभी फीकी नहीं पड़ सकती। 

जनाब Rrahat Indori Ki Shayari, Rahat Iindori Ke Sher, और Rahat Indori Ki Ghazal, हर इंसान के सर पे चढ़ के बोलते हैं और हर आदमी राहत इंदौरी शायरी, और खासकर के राहत इंदौरी शायरी हिंदी 2 लाइन का दीवाना होता है। 

राहत इन्दोरी साहब के शेर और शायरी में एक तंज़ रहता आया है और जो पूरी तरह से हालात और एहसासों के साथ खपते हुए नज़र आते हैं.। 

Janab Rahat Indori Shayari ki duniya ka wo jagmagata sitara hai, jo apni Shayari sey puri duniya mein roshni deta hai. Na sirf India mein balki her mulk mein Dr Rahat Indori key beshumaar fans hain.

rahat indori shayari in hindi
Rahat Indori Shayari In Hindi

अगर आपको ऐसा एक भी इंसान मिले जिसे Rahat Indori Shayari In Hindi सुनी न हो तो मुझे ज़रूर कमेट करके बताएं. क्यूंकि हिंदी शायरी या उर्दू शायरी को पसंद और पढने वाले लोगों ने इस दुनिया के हर हिस्से में राहत इन्दोरी को सुना और पढ़ा और पसंद किया है। 

Rahat Indori Sahab is one of the most respected shayar in all over the world.  

चलिए आज इस पोस्ट में देखते हैं Rahat Indori Shayari In Hindiराहत इन्दोरी शायरी इन हिंदी, कुछ ऐसे शेर और शायरियां जो आपके दिल को घरे तक छो जाएगी। 

Rahat Indori Shayari In Hindi

राहत इंदौरी शायरी हिंदी
Rahat Indori Shayayri In Hindi

इन्तेज़ामात नए सिरे से संभाले जाएँ
जितने कमजर्फ हैं महफ़िल से निकाले जाएँ

Intezaamaat nae sire se sambhaale jaen
Jitane kamajarph hain mahafil se nikaale jaen

Rahat indori shayari 2 line

इस से पहले की हवा शोर मचाने लग जाए
मेरे “अल्लाह” मेरी ख़ाक ठिकाने लग जाए

Is se pahale kee hava shor machaane lag jae
Mere “allaah” meree khaak thikaane lag jae

मेरे हुजरे में नहीं, और कंही पर रख दो
आसमां लाए हो, ले आओ, ज़मीन पर रख दो
अरे यार कहां ढूंढने जाओगे हमारे कातिल
आप तो कत्ल का इल्ज़ाम हमी पर रख दो

Mere hujare mein nahin, aur kanhee par rakh do
Aasamaan lae ho, le aao, zameen par rakh do
Are yaar kahaan dhoondhane jaoge hamaare kaatil
Aap to katl ka ilzaam hamee par rakh do

rahat indori shayari
Rahat Indori Shayari Hindi

इश्क ने गूथें थे जो गजरे नुकीले हो गए
तेरे हाथों में तो ये कंगन भी ढीले हो गए

फूल बेचारे अकेले रह गए है शाख पर
गाँव की सब तितलियों के हाथ पीले हो गए

Ishk ne goothen the jo gajare nukeele ho gae
Tere haathon mein to ye kangan bhee dheele ho gae

Phool bechaare akele rah gae hai shaakh par
Gaanv kee sab titaliyon ke haath peele ho gae

rahat indori sad shayari
Rahat Indori Love Shayari

जागने की भी, जगाने की भी, आदत हो जाए
काश तुझको किसी शायर से मोहब्बत हो जाए

Jaagane kee bhee, jagaane kee bhee, aadat ho jae
Kaash tujhako kisee shaayar se mohabbat ho jae

जुबाँ तो खोल, नज़र तो मिला,जवाब तो दे
में कितनी बार लुटा हूँ , मुझे हिसाब तो दे

तेरे बदन की लिखावट में हैं उतार चढाव
में तुझको कैसे पढूंगा, मुझे किताब तो दे

Zubaan to khol, nazar to mila, jawaab to de,
Mai kitni baar luta hoon mujhe hisaab to de,

Tere badan ki likhawat mai hai utaar chadaav,
Mai tujhe kaise padhunga mujhe kitaab to de. 

राहत इंदौरी की मशहूर शायरी हिंदी में
राहत इंदौरी बेस्ट शायरी

अब अपने रूह के छालों का कुछ हिसाब करूं
मैं चाहता था कि चिरागों को आफताब करूं 

Ab apane rooh ke chhaalon ka kuchh hisaab karoon
Main chaahata tha ki chiraagon ko aaftaab karoon

राहत इंदौरी शायरी हिंदी 4 लाइन

rahat indori shayari 2 line
rahat indori shayari in hindi 4 line

ऐसा लगता है लहू में हमको,
कलम को भी डुबाना चाहिए था

अब मेरे साथ रह के तंज़ ना कर,
तुझे जाना था जाना चाहिए था

Aisa lagta hai lahu me hamko
kalam ko bhi dubana chahaiye tha

Ab mere saath reh ke tanz naa kar
Tujhe jana tha,jana chahaiye tha

हम अपनी जान के दुश्मन को अपनी जान कहते है
मोहब्बत की इसी मिट्टी को हिन्दुस्तान कहते हैं
जो ये दीवार का सुराख है साज़िश है लोगों की,
मगर हम इसको अपने घर का रोशनदान कहते हैं

Ham apanee jaan ke dushman ko apanee jaan kahate hai
Mohabbat kee isee mittee ko hindustaan kahate hain
Jo ye deevaar ka suraakh hai saazish hai logon kee,
Magar ham isako apane ghar ka roshanadaan kahate hain

पहले मैंने अपने दरवाजे पर खुद आवाज दी
फिर थोड़ी देर में खुद निकल कर आ गया

Rahat Indori latest shayayri
Rahat Indori Shayari Download

Pahale mainne apane daravaaje par khud aavaaj dee,
Phir thodee der mein khud nikal kar aa gaya

Rahat Indori Romantic Shayari In Hindi

एक एक हर्फ़ का अंदाज़ बदल रखा है,
आज से मैंने तेरा नाम ग़ज़ल रखा है,

मैंने शाहो की मोहब्बत का भरम तोड़ दिया,
मेरे कमरे मे भी एक ताजमहल रखा है

Ek ek harf ka andaaz badal rakha hai,
Aaj se humne tera naam ghazal rakha hai,

Maine shaho ki mohabbat ka bharam tod dia,

Mere kamre mai bhi ek tajmahal rakha hai

rahat indori shayari in hindi pdf download
राहत इंदौरी शायरी

कभी महक की तरह हम गुलों से उड़ते हैं
कभी धुएं की तरह पर्वतों से उड़ते हैं

ये केचियाँ हमें उड़ने से खाक रोकेंगी
की हम परों से नहीं हौसलों से उड़ते हैं

Kabhee mahak kee tarah ham gulon se udate hain
Kabhee dhuen kee tarah parvaton se udate hain

Ye kechiyaan hamen udane se khaak rokengee
Kee ham paron se nahin hausalon se udate hain

Rahat Indori Shayari Hindi Me

rahat indori shayari rekhta
राहत इंदौरी बेस्ट शायरी स्टेटस

नयी हवाओं की सोहबत बिगाड़ देती हैं
कबूतरों को खुली छत बिगाड़ देती हैं

जो जुर्म करते है इतने बुरे नहीं होते
सज़ा न देके अदालत बिगाड़ देती हैं

Nayi hawaaon ki sohbat bigaad deti hai,
Kabtooro ko khuli chat bigaad deti hai,

Jo jurm karte hain itne bure nahi hote,

Saza na deke adaalat bigaad deti hai.

Rahat Indori Shayari In Hindi

best rahat indori shayari in hindi
Best Of Rahat Indori Shayari

बन के इक हादसा बाज़ार में आ जाएगा,
जो नहीं होगा वो अखबार में आ जाएगा,

चोर उचक्कों की करो कद्र, कि मालूम नहीं,
कौन, कब, कौन सी सरकार में आ जाएगा

Ban ke ik hadasa bazaar me aa jayega,
Jo nahi hoga wo akhbaar me aa jayega,

Chor uchkkon ki karo kadr, ki maloom nahi,

Kaun, kab, kon si sarkaar me aa jayega

Rahat Indori Shayari On Love

rahat indori shayari urdu
डॉ राहत इंदौरी की शायरी

तेरी हर बात मोहब्बत मे गवारा करके,
दिल के बाज़ार मे बैठे हैं ख़सारा करके

मुन्तज़िर हूँ के सितारों की ज़रा आँख लगे,
चाँद को छत पे बुला लूंगा इशारा करके

Teri har baat mohabbat mai gawara karke,
Dil ke bazaar mai baithe hai khasaara karke,

Muntazir hoon ke sitaaro ki zara aankh lage,

Chaand ko chat pe bula lunga ishara karke.

Best Rahat Indori Shayari In Hindi

राहत इंदौरी शायरी हिंदी मौत
Quotes Of Rahat Indori

 

नए सफ़र का नया इंतज़ाम कह देंगे
हवा को धूप, चरागों को शाम कह देंगे

किसी से हाथ भी छुप कर मिलाइए
वरना इसे भी मौलवी साहब हराम कह देंगे

कश्ती तेरा नसीब चमकदार कर दिया
इस पार के थपेड़ों ने उस पार कर दिया
अफवाह थी की मेरी तबियत ख़राब हैं
लोगो ने पूछ पूछ के बीमार कर दिया                                                                                    

Rahat Indori Shayari With Image

love shayayri rahat indori
Rahat Indori Shayari On Love

सूरज,सितारे,चाँद,मेरे साथ में रहे
जब तक तुम्हारा हाथ मेरे हाथ में रहे

शाखों से टूट जाएँ वो पत्ते नहीं हैं हम
आँधी से कोई कह दो, कि औकात में रहे

Suraj, sitaare, chaand mere saath me rahe,
Jab tak tumhare haath mere haath me rahe,
Shaakhon se toot jaaye wo patte nahi hain hum,
Aandhi se koi kah de ki aukaat me rahe

राहत इंदौरी की मशहूर शायरी हिंदी में

rahat indori famous shayari in hindi
रहत इन्दोरी साहब की मशहूर शायरी

जवान आँखों के जुगनू चमक रहे होंगे
अब अपने गाँव में अमरुद पक रहे होंगे

भुलादे मुझको मगर, मेरी उंगलियों के निशान
तेरे बदन पे अभी तक चमक रहे होंगे

Jawaan aankhon mein juganoo chamak rahe honge
Ab apane gaanw mein amarood pak rahe honge

Bhula de mujhako magar, meree ungaliyon ke nishaan

Teree badan par abhee tak chamak rahe honge

Top Rahat Indori Shayari

top 10 rahat indori shayari hindi
Rahat Indori shayayri On Life

आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो,
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो

एक ही नदी के हैं ये दो किनारे दोस्तो,
दोस्ताना ज़िंदगी से मौत से यारी रखो

Aankhon Mein Pani Rakho Hontho Pe Chingari Rakho,
Zinda Rahna Hai Toh Tarkeebein Bahut Saari Rakho,

Ek Hi Nadi Ke Hain Yeh Do Kinare Dosto,

Dostana Zindagi Se Maut Se Yaari Rakho.

Best Shayari Rahat Indori Sahab Ki

Rahat Indori Sahab ney beshumaar shayari kahin hai. Janab,Rahat Sahab ki un sab shayari ko ak jagah samet key nahi rakhaa ja sakta. Rahat Indori Sahab ki shayari mein rooh ka ahsas hota hai. 

Pesh Hain Rahat Indori Sahab ki kuchh aur Shayari

रहत इन्दोरी शेर
Heart touching Rahat Indori Shayari

घर से यह सोचकर निकला हूं कि मर जाना है
अब कोई राह दिखा दे कि किधर जाना है

जिस्म से साथ निभाने की मत उम्मीद रखो
इस मुसाफिर को तो रास्ते में ठहर जाना है

Ghar se ye soch ke nikla huun ki mar jaana hai
Ab koi raah dikha de ki kidhar jaana hai

Jism se saath nibhane ki mat ummid rakho

Is musafir ko to raste men thahar jaana hai

राहत इंदौरी शायरी In English Font

शायरी रहत इन्दोरी की
राहत इन्दोरी शायरी

रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं
चाँद पागल हैं अन्धेरें में निकल पड़ता है

उसकी याद आई हैं सांसों, जरा धीरे चलो
धडकनों से भी इबादत में खलल पड़ता हैं

Roz taaron ko numaish mein khalal padata hai
Chaand paagal hai andhere mein nikal paata hai

Uskee yaad aaee hai saanso jara dheere chalo

Dhadakanon se bhee ibaadat mein khalal padata hai

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते

 

सरहदों पर बहोत तनाव है क्या
कुछ पता तो करो चुनाव है क्या

जंग है तो जंग का मंज़र भी होना चाहिए
सिर्फ नेज़े हाथ में हैं सर भी होना चाहिए

राहत इंदौरी शायरी हिंदी 2 लाइन

rahat indori sher
Rahat Indori Shayari

लू भी चलती थी तो बादे-शबा कहते थे,
पांव फैलाये अंधेरो को दिया कहते थे,

उनका अंजाम तुझे याद नही है शायद,
और भी लोग थे जो खुद को खुदा कहते थे

Loo bhi chalatee thee to baadey shaba kahate thhe
Paaon failaye andheron ko diya kahate thhe

Unaka anjaam tujhe yaad nahin hai shaayad

Aur bhee log thhe jo khud ko khuda kahate thhe

राहत इंदौरी शायरी हिंदी 2 लाइन love

rahat indori motivational shayari in hindi
Rahat Indori Witty Shayari

जवानिओं में जवानी को धूल करते हैं
जो लोग भूल नहीं करते, भूल करते हैं

अगर अनारकली हैं सबब बगावत का
सलीम हम तेरी शर्ते कबूल करते हैं

Jawaaniyon mein javaanee ko dhool karate hain
Jo log bhool nahin karate, bhool karate hain

Agar anaarakalee hai sabab bagaavat ka

Saleem ham teree sharten kubool karate hain

Dr. Rahat Indori Shayari , His Shayari are the most powerful Hindi Shayari, one will ever come across. Dr. Rahat Indori is not only a Poet but also a great human being.

राहत इंदौरी देशभक्ति शायरी इन हिंदी
राहत इन्दोरी के शेर

फैसला जो कुछ भी हो, हमें मंजूर होना चाहिए
जंग हो या इश्क हो, भरपूर होना चाहिए

भूलना भी हैं, जरुरी याद रखने के लिए
पास रहना है, तो थोड़ा दूर होना चाहिए

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते

Famous Rahat Indori Shayari In Hindi

सफ़र की हद है वहां तक की कुछ निशान रहे
चले चलो की जहाँ तक ये आसमान 

ये क्या उठाये कदम और आ गयी मंजिल
मज़ा तो तब है के पैरों में कुछ थकान रहे

Safar kee had hai wahaan tak ki kuchh nishaan rahey
Chale chalo ki jahaan tak yah aasamaan rahey

Ye kya uthae kadam aur aa gayi manzil

Mazaa to tab hai ki pairon mein kuchh thakaan rahey

Rahat Indori Shayari On Life

मेरी आंखों में कैद थी बारिश,
तुम ना आए तो हो गई बारिश।
आसमानों में ठहर गया सूरज,
नदियों में ठहर गई बारिश।

राहत इन्दोरी शेरो शायरी
राहत इन्दोरी लव शायरी

फूंक डालुंगा मैं किसी रोज दिल की दुनिया
ये तेरा खत तो नहीं है जो जला ना सकूं

Foonk daalunga main kisi rozz dil ki duniya
Ye tera khat to nahi jo jala na sakoon

तूफ़ानों से आँख मिलाओ, सैलाबों पर वार करो
मल्लाहों का चक्कर छोड़ो, तैर के दरिया पार करो

Toofaanon se aankh milao, sailaabon par vaar karo
Mallaahon ka chakkar chhodo, tair ke dariya paar karo

Rahat Indori Shayari In Hindi Fonts

हरेक चहरे को ज़ख़्मों का आइना न कहो
ये ज़िंदगी तो है रहमत इसे सज़ा न कहो

Life shayari rahat indori
Rahat Indori Shayari Life Pe

न जाने कौन सी मजबूरियों का क़ैदी हो
वो साथ छोड़ गया है तो बेवफ़ा न कहो

तमाम शहर ने नेज़ों पे क्यों उछाला मुझे
ये इत्तेफ़ाक़ था तुम इसको हादिसा न कहो.

ये और बात के दुशमन हुआ है आज मगर
वो मेरा दोस्त था कल तक उसे बुरा न कहो

हमारे ऐब हमें ऊँगलियों पे गिनवाओ
हमारी पीठ के पीछे हमें बुरा न कहो

मैं वाक़यात की ज़ंजीर का नहीं कायल
मुझे भी अपने गुनाहो का सिलसिला न कहो

ये शहर वो है जहाँ राक्षस भी हैं राहत
हर इक तराशे हुए बुत को देवता न कहो

Rahat Indori Ghazal In English

Harek chahare ko zakhmon ka aaina na kaho
Ye zindagee to hai rahamat ise saza na kaho

Na jaane kaun see majabooriyon ka qaidee ho
Wo saath chhod gaya hai to bevafa na kaho

Tamaam shahar ne nezon pe kyon uchhaala mujhe
Ye ittefaaq tha tum isako haadisa na kaho

Ye aur baat ke dushaman hua hai aaj magar
Wo mera dost tha kal tak use bura na kaho

Hamaare aib hamen oongaliyon pe ginawao
Hamaaree peeth ke peechhe hamen bura na kaho

Main vaaqayaat kee zanjeer ka nahin kaayal
Mujhe bhee apane gunaaho ka silasila na kaho

Ye shahar wo hai jahaan raakshas bhee hain raahat
Har ik taraashe hue but ko devata na kaho

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते

Haath khaalee hain tere shahar se jaate jaate
Jaan hotee to meree jaan lutaate jaate
Ab to har haath ka patthar hamen pahachaanata hai,
Umr guzaree hai tere shahar mein aate jaate.

जुबां तो खोल, नजर तो मिला, जवाब तो दे
मैं कितनी बार लुटा हूँ, हिसाब तो दे

राहत इंदौरी की हिंदी शायरी 

राहत इन्दोरी ग़ज़ल
Rahat Indori shayayri Hindi Me

मुझसे पहले वो किसी और की थी,
मगर कुछ शायराना चाहिये था,

चलो माना ये छोटी बात है,
पर तुम्हें सब कुछ बताना चाहिये था

कहीं अकेले में मिल कर झिंझोड़ दूँगा उसे
जहाँ जहाँ से वो टूटा है जोड़ दूँगा उस

राहत इन्दोरी की मशहूर ग़ज़ल 

हरेक चहरे को ज़ख़्मों का आइना न कहो
ये ज़िंदगी तो है रहमत इसे सज़ा न कहो

न जाने कौन सी मजबूरियों का क़ैदी हो
वो साथ छोड़ गया है तो बेवफ़ा न कहो

तमाम शहर ने नेज़ों पे क्यों उछाला मुझे
ये इत्तेफ़ाक़ था तुम इसको हादिसा न कहो.

ये और बात के दुशमन हुआ है आज मगर
वो मेरा दोस्त था कल तक उसे बुरा न कहो

हमारे ऐब हमें ऊँगलियों पे गिनवाओ
हमारी पीठ के पीछे हमें बुरा न कहो

मैं वाक़यात की ज़ंजीर का नहीं कायल
मुझे भी अपने गुनाहो का सिलसिला न कहो

ये शहर वो है जहाँ राक्षस भी हैं राहत
हर इक तराशे हुए बुत को देवता न कहो

Amazing Rahat Indori Shayari In Hindi

Harek chahare ko zakhmon ka aaina na kaho
Ye zindagee to hai rahamat ise saza na kaho

Na jaane kaun see majabooriyon ka qaidee ho
Wo saath chhod gaya hai to bevafa na kaho

Tamaam shahar ne nezon pe kyon uchhaala mujhe
Ye ittefaaq tha tum isako haadisa na kaho

Ye aur baat ke dushaman hua hai aaj magar
Wo mera dost tha kal tak use bura na kaho

Hamaare aib hamen oongaliyon pe ginawao
Hamaaree peeth ke peechhe hamen bura na kaho

Main vaaqayaat kee zanjeer ka nahin kaayal
Mujhe bhee apane gunaaho ka silasila na kaho

Ye shahar wo hai jahaan raakshas bhee hain raahat
Har ik taraashe hue but ko devata na kaho

एक और राहत इंदौरी की ग़ज़ल

rahat indori motivational shayari in hindi
rahat indori shayari in hindi images

मैं ताज हूँ तो ताज को सर पे सजायें लोग
मैं ख़ाक हूँ तो ख़ाक उड़ा देनी चाहिए

बीमार को मर्ज़ की दवा देनी चाहिए
वो पीना चाहता है पिला देनी चाहिए

अल्लाह बरकतों से नवाज़ेगा इश्क़ में
है जितनी पूँजी पास लगा देनी चाहिए

ये दिल किसी फ़कीर के हुज़रे से कम नहीं
ये दुनिया यही पे लाके छुपा देनी चाहिए

मैं फूल हूँ तो फूल को गुलदान हो नसीब
मैं आग हूँ तो आग बुझा देनी चाहिए

मैं ख़्वाब हूँ तो ख़्वाब से चौंकाईये मुझे
मैं नीद हूँ तो नींद उड़ा देनी चाहिए

मैं जब्र हूँ तो जब्र की ताईद बंद, हो
मैं सब्र हूँ तो मुझ को दुआ देनी चाहिए

मैं ताज हूँ तो ताज को सर पे सजायें लोग
मैं ख़ाक हूँ तो ख़ाक उड़ा देनी चाहिए

सच बात कौन है जो सरे-आम कह सके
मैं कह रहा हूँ मुझको सजा देनी चाहिए

सौदा यही पे होता है हिन्दोस्तान का
संसद भवन में आग लगा देनी चाहिए

Beemaar ko marz kee dava denee chaahie
Wo peena chaahata hai pila denee chaahie

Allaah barakaton se navaazega ishq mein
Hai jitanee poonjee paas laga denee chaahie

Ye dil kisee fakeer ke huzare se kam nahin
Ye duniya yahee pe laake chhupa denee chaahie

Main phool hoon to phool ko guladaan ho naseeb
Main aag hoon to aag bujha denee chaahie

Main khvaab hoon to khvaab se chaunkaeeye mujhe
Main need hoon to neend uda denee chaahie

Main jabr hoon to jabr kee taeed band, ho
Main sabr hoon to mujh ko dua denee chaahie

Main taaj hoon to taaj ko sar pe sajaayen log
Main khaak hoon to khaak uda denee chaahie

Sach baat kaun hai jo sare-aam kah sake
Main kah raha hoon mujhako saja denee chaahie

Sauda yahee pe hota hai hindostaan ka
Sansad bhavan mein aag laga denee chaahie

Rahat Indori  की ये ग़ज़ल जनाब जगजीत सिंह साहब ने गई थी 

राहत इन्दोरी की ग़ज़ल
Rahat Indori ghazal

लोग हर मोड़ पे रुक-रुक के संभलते क्यों हैं
इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यों हैं

मैं न जुगनू हूँ, दिया हूँ न कोई तारा हूँ
रोशनी वाले मेरे नाम से जलते क्यों हैं

नींद से मेरा त’अल्लुक़ ही नहीं बरसों से
ख्वाब आ आ के मेरी छत पे टहलते क्यों हैं

मोड़ होता है जवानी का संभलने के लिए
और सब लोग यहीं आके फिसलते क्यों हैं

Log har mod pe ruk-ruk ke sambhalate kyon hain
Itana darate hain to phir ghar se nikalate kyon hain

Main na juganoo hoon, diya hoon na koee taara hoon
Roshanee vaale mere naam se jalate kyon hain

Neend se mera taalluq hee nahin barason se
Khwaab aa aa ke meree chhat pe tahalate kyon hain

Mod hota hai javaanee ka sambhalane ke lie
Aur sab log yaheen aake fisalate kyon hain

दोस्तों, उम्मीद है मुझे कि, आप सबको Rahat Indori Shayari In Hindi की ये पोस्ट अच्छी लगी होगी. मैं आगे भी इस पोस्ट को Rahat Indori Shayayri से अपडेट करता रहूँगा . आप कभी भी आकर Rahat Indori साहब की और शायरी और ग़ज़ल देख सजते हैं इस पोस्ट पर. 

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो शेयर करना न भूलें. आपके वक़्त का बहोत आभार!

2 thoughts on “Rahat Indori Shayari In Hindi – Rahat Indori Shayari”

  1. Nishar Ahmad ali khan teacher

    Super
    राहत साहब बड़े कमाल का व्यक्तित्व था

Leave a Comment

Your email address will not be published.