Deep Shayari Of Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari – An Ultimate Collection Of Ghalib Shayari In Hindi

Mirza Ghalib Shayari ki duniya mein wo naam hai, jo na sirf aaj bhi pasand aur padhey jaatey hain, balki aaj bhi Mirza Ghalib ka her sher, akdum sahi baithta hai, zindagi key her rang per.

27 दिसंबर 1797 ko, Aagra mein janmey Mirza Ghalib ka poora naam  मिर्जा असद उल्लाह बैग का उर्फ ग़ालिब था. Mirza Ghalib, बहादुर शाह ज़फर के दरबारी शायर थे.  मिर्ज़ा ग़ालिब ने जब शायरी कहना शुरू किया था, तो उनकी शायरी, फ़ारसी जुबान में करते थे. और इस लिए आम लोगों को उनकी शायरी भारी लगती थी.

मिर्ज़ा ग़ालिब, ने इस बात को समझा और आसन हिंदी और उर्दू शब्दों का इस्तेमाल करते हुए शायरी शुरू की, और जल्दी ही, लोगो के चहेते शायर बन गए. मिर्ज़ा ग़ालिब ने ज़िन्दगी के हर रंग पे शायरी की है, और उनका हर शेर, बार बार सुनकर भी जी नहीं भरता.

ग़ालिब की शायरी में, इश्क, दर्द, शराब, ख़ुदा, ज़िन्दगी, ख़ुशी, ग़म, जुदाई, का बेहतरीन इस्तेमाल दिखता है.

आज के इस पोस्ट में, मैं, आप सबके लिए Mirza Ghalib Shayari हिंदी और english दोनों फोंट्स में लाया हूँ.  ये मिर्ज़ा ग़ालिब के कुछ प्रसिद्ध और सबसे बेहतरीन शेर हैं, जो आज भी पूरी दुनिया में बड़े अहतराम से पढ़े और सुने जाते हैं.

मुझे उम्मीद है, आपको मिर्ज़ा ग़ालिब के ये  बेहतरीन शेर और शायरी collection बेहद पसंद आएगी.

Mirza Ghalib Shayari In Hindi 

Mirza Ghalib Shayari
Mirza Ghalib Shayari

रंज से ख़ूगर हुआ इंसाँ तो मिट जाता है रंज,
मुश्किलें मुझ पर पड़ीं इतनी कि आसाँ हो गईं

Ghalib Hindi Shayari

Ranj se khoogar hua insaan to mit jaata hai ranj,
Mushkilen mujh par padeen itanee ki aasaan ho gaeen

शहरे वफा में धूप का साथी नहीं कोई
सूरज सरों पर आया तो साये भी घट गए

Shahare vapha mein dhoop ka saathee nahin koee
Sooraj saron par aaya to saaye bhee ghat gae

फिर तेरे कूचे को जाता है ख्याल
दिल -ऐ -ग़म गुस्ताख़ मगर याद आया
कोई वीरानी सी वीरानी है
दश्त को देख के घर याद आया

Phir Tere Kuche Ko Jata Hai Khayal
Dil-Ae-Gam Gustak Magar Yaad Aaya
Koi Wiraani Si Wiraani Hai
Dast Ko Dekh Ke Ghar Yaad Aya.

चाहें ख़ाक में मिला भी दे किसी याद सा भुला भी दे,
महकेंगे हसरतों के नक़्श* हो हो कर पाएमाल^ भी !!

Chahe Khak Me Mila Bhi De Kisi Yaad Sa Bhula Bhi De
Mahekenge Hasrato Ke Naksh Ho Ho Kar Paymaal Bhi !!

मैं नादान था जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब
यह न सोचा के एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी

Mai Nadaan Tha Jo Wafa Ko Talaash Karta Rha Ghalib
Yh Na Socha Ke Ek Din Apni Saans Bhi Bewafa Ho Jayagi.

Best Of Mirza Ghalib Shayari 

Best Of Mirza Ghalib Shayari 
Best Of Mirza Ghalib Shayari

मत पूछ कि क्या हाल है मेरा तिरे पीछे,
तू देख कि क्या रंग है तेरा मिरे आगे !!

Mat Pooch Ki Kya Haal Hai Mera Tere Peeche,
Tu Dekh Ki Kya Rang Hai Tera Mera Aage !!

फ़िक्र–ए–दुनिया में सर खपाता हूँ
मैं कहाँ और ये वबाल कहाँ !!

Fikr-Ae-Duniya Me Sar Khapata Hu,
Mai Kha Aur Ye Bawall kahan.

इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं

Is Sadgi Pe Kon Na Mar Jay Ae Khuda,
Ladte Hai Aur Hath Me Talwar Bhi Nhi.

रोक लो गर ग़लत चले कोई,
बख़्श दो गर ख़ता करे कोई !!

Rok Lo Gar Galat Chale Koi,
Baksh Do Gar Kahta Kare Koi !!

मुहब्बत में उनकी अना का पास रखते हैं,
हम जानकर अक्सर उन्हें नाराज़ रखते हैं !!

Mohbaat Me Unki Ana Ka Pass Rakhte Hai,
Ham Jaankar Aksar Unhe Naraj Rakhte Hai.

Top Mirza Ghalib Shayari in Hindi

Top Mirza Ghalib Shayari in Hindi
Top Mirza Ghalib Shayari in Hindi

मैं उन्हें छेड़ूँ और कुछ न कहें चल निकलते जो में पिए होते
क़हर हो या भला हो , जो कुछ हो काश के तुम मेरे लिए होते

Mai Unhe Ched Aur Kuch Na Khe Chl Niklte Jo Me Piye Hote
Kaher Ho Ya Bhala Ho, Jo Kuch Ho Kaash Ke Tum Mere Liye Hote

इश्क़ ने ‘ग़ालिब’ निकम्मा कर दिया
वरना हम भी आदमी थे काम के

Ishq Ne Galib Nikmma Kar Diya
Warna Ham Bhi Aadmi The Kaam Ke

Best Shayari Of Mirza Ghalib – Ghalib Shayari On Life

Ghalib Shayari On Life
Ghalib Shayari On Life

यादे–जानाँ भी अजब रूह–फ़ज़ा आती है,
साँस लेता हूँ तो जन्नत की हवा आती है !!

Yaad- Jana Bhi Ajab Ruh-Faza Ati Hai,
Sans Leta Hu To Jannat Ki Hawa Ati Hai!!

गुज़र रहा हूँ यहाँ से भी गुज़र जाउँगा,
मैं वक़्त हूँ कहीं ठहरा तो मर जाउँगा !!

Gujar Raha Hu Yha Se Bhi Gujar Jaunga,
Mai Waqt Hu Kahi Thara To Mar Jaunga !!

न था कुछ तो ख़ुदा था कुछ न होता तो ख़ुदा होता
डुबोया मुझ को होने ने न होता मैं तो क्या होता

Na tha kuchh to khuda tha kuchh na hota to khuda hota
Duboya mujh ko hone ne na hota main to kya hota

गुज़रे हुए लम्हों को मैं इक बार तो जी लूँ,
कुछ ख्वाब तेरी याद दिलाने के लिए हैं !!

Gujre Hue Lamho Ko Mai Ek Baar To Jee Lu,
Kuch Khwab Teri Yaad Dilane Ke LiYE Hai !!

Famous Mirza Ghalib Shayari On Love

ता फिर न इंतिज़ार में नींद आए उम्र भर,
आने का अहद कर गए आए जो ख़्वाब में !!

Ta Fir Na Intijaar Me Need Aay Umar Bhar,
Ane Ka Ahad Kar Gy Aay Jo Khwab Me!!

उल्फ़त पैदा हुई है , कहते हैं , हर दर्द की दवा
यूं हो हो तो चेहरा -ऐ -गम उल्फ़त ही क्यों न हो

Ulfat Paida Hui Hai, Kahtey Hai, Har Dard Ki Dava
Yu Ho Ho To Chera-Ae-Gam Ulfat Hi Kyu Na Ho.

ज़िन्दग़ी में तो सभी प्यार किया करते हैं,
मैं तो मर कर भी मेरी जान तुझे चाहूँगा !!

Zindagi Me To Sabhi Pyaar Kiya Karte Hai,
Mai To Mar Kar Bhi Meri Jaan Tujhe Chaunga !!

मोहब्बत में नही फर्क जीने और मरने का
उसी को देखकर जीते है जिस ‘काफ़िर’ पे दम निकले

Mohabbat mein nahee phark jeene aur marane ka
Usee ko dekhakar jeete hai jis ‘kaafir’ pe dam nikale

मिर्जा गालिब साहब की बेहतरीन शायरियां जो छू लेगी आपका दिल 

मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी
मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

तेरे वादे पर जिये हम तो यह जान,झूठ जाना
कि ख़ुशी से मर न जाते अगर एतबार होता

Tere Vade Par Jiye Ham To Yh Jaan, Jhuth Jana
Ki Khusi Se Mar Na Jate Agar Aitbaar Hota.

तू मिला है तो ये अहसास हुआ है मुझको,
ये मेरी उम्र मोहब्बत के लिए थोड़ी है

Tu Mila Hai To Ye Ahsas Hua Hai Mujhko,
Ye Meri Umar Mohabaat Ke Liye Thodi Hai

मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी Hindi Mein

उस पे आती है मोहब्बत ऐसे
झूठ पे जैसे यकीन आता है

Us Pe Ati Hai Mohabaat Aise
Jhuth Pe Jaise Yakeen Ata Hai

अर्ज़–ए–नियाज़–ए–इश्क़ के क़ाबिल नहीं रहा
जिस दिल पे नाज़ था मुझे वो दिल नहीं रहा

Arz-Ae-Niyaz-Ae-Ishq Ke Kabil Nhi Raha,
Jis Dil Pe Naaz Tha Mujhe Vo Dil Nhi Raha

इक क़ुर्ब जो क़ुर्बत को रसाई नहीं देता,
इक फ़ासला अहसास–ए–जुदाई नहीं देता

Ek Kurb Jo Kurbat Ko Rasoi Nhi Deta
Ek Fasla Ahsaas-Ae-Judai Nhi Deta

Ultimate Heart Touching Love Shayari For Boys

दिल–ए–नादाँ तुझे हुआ क्या है
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है

Dil-Ae-Naad Tujhe Hua Kya Hai
Akhir Is Dard Ki Dawa Kya Hai

Deep Shayari Of Mirza Ghalib In Hindi

Deep Shayari Of Mirza Ghalib
Deep Shayari Of Mirza Ghalib

तोड़ा कुछ इस अदा से तालुक़ उस ने ग़ालिब
के सारी उम्र अपना क़सूर ढूँढ़ते रहे

Toda Kuch Is Ada Se Taluk Us Ne Ghalib
Ke Sari Umar Apna Kasoor Dhundta Rhe.

वो रास्ते जिन पे कोई सिलवट ना पड़ सकी,
उन रास्तों को मोड़ के सिरहाने रख लिया !!

Vo Raaste Jin Pe Koi Silvat Na Pad Saki,
Un Rasto Ko Mod Ke Sirhane Rakh Liya !!

इक शौक़ बड़ाई का अगर हद से गुज़र जाए
फिर ‘मैं’ के सिवा कुछ भी दिखाई नहीं देता

Ek Shouk Badai Ka Agar Had Se Gujar Jaay
Fir ‘Mai’ Ke Siva Kuch Bhi Dikhai Nhi Deta

देखिए लाती है उस शोख़ की नख़वत क्या रंग
उस की हर बात पे हम नाम-ए-ख़ुदा कहते हैं

Dekhiye laatee hai us shokh kee nakhavat kya rang
Us kee har baat pe ham naam-e-khuda kahate hain

कुछ लम्हे हमने ख़र्च किए थे मिले नही,
सारा हिसाब जोड़ के सिरहाने रख लिया !!

Kuch Lamhe Hamne Kharch Kiye The Mile Nhi,
Sara Hisab Jod Ke Sirhane Rakh Liya !!

भीगी हुई सी रात में जब याद जल उठी,
बादल सा इक निचोड़ के सिरहाने रख लिया !!

Bheege Hui Se Raat Me Jab Yaad Jal Uthi,
Badal Sa Ek Nichod Ke Sirhane Rakh Liya !!

Mirza Ghalib Shayari In Hindi Font

Mirza Ghalib Shayari In Hindi
Mirza Ghalib Shayari In Hindi

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल,
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है !!

Rango Me Daudte Firne Ke Ham Nahi Kaiel,
Jab Ankh Hi Se Na Tapka To Fir Lahu Kya Hai !!

जी ढूँडता है फिर वही फ़ुर्सत कि रात दिन,
बैठे रहें तसव्वुर–ए–जानाँ किए हुए !!

Jee Dhundta Hai Phir Vhi Fursat Ki Raat Din,
Baithe Rhe Tasvur-Ae-Jaan Kiye Hue.

हुई मुद्दत कि ‘ग़ालिब’मर गया पर याद आता है,
वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता !

Huee muddat ki ‘ghalib’mar gaya par yaad aata hai,
Wo har ik baat par kahana ki yoon hota to kya hota !

है और तो कोई सबब उसकी मुहब्बत का नहीं,
बात इतनी है के वो मुझसे जफ़ा करता है !!

Hai Aur To Koi Sabab Uski Mohabaat Ka Nhi,
Baat Itni Hai Ke Vo Mujhse Jafa Karta Hai !!

एजाज़ तेरे इश्क़ का ये नही तो और क्या है,
उड़ने का ख़्वाब देख लिया इक टूटे हुए पर से !!

Aejaj Tere Ishq Ka Ye Nhi To Aur Kya Hai,
Udne Ka Khwab Dekh Liya Ek Tute Hue Par Se !!

हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन
दिल के खुश रखने को ग़ालिब यह ख्याल अच्छा है

Hamko Maloom Hai Jannat Ki Haqekat Lekin
Dil Ke Khus Rakhne Ko Ghalib Yh Khayaal Accha Hai.

मिर्ज़ा ग़ालिब शेर इन हिंदी

कुछ तो तन्हाई की रातों में सहारा होता,
तुम न होते न सही ज़िक्र तुम्हारा होता !!

Kuch To Tanhai Ki Raato Me Sahara Hota,
Tum Na Hote Na Shi Zikar Tumhara Hota !!

आया है मुझे बेकशी इश्क़ पे रोना ग़ालिब
किस का घर जलाएगा सैलाब भला मेरे बाद

Aya Hai Mujhe Bekasi Ishq Pe Rona Ghalib
Kis Ka Ghar Jlayga Sailab Bhala Mere Baad

मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरी

नादान हो जो कहते हो क्यों जीते हैं ग़ालिब
किस्मत मैं है मरने की तमन्ना कोई दिन और

Nadaan Ho Jo Kahtey Ho Kyo Jeete Hai Galib
Kismat Mai Hai Marne Ki Tamnna Koi Din Aur

लाज़िम था के देखे मेरा रास्ता कोई दिन और
तनहा गए क्यों , अब रहो तनहा कोई दिन और

Lajeem Tha Ke Dekh Mera Rasta Din Aur
Tanha Gay Kyo, Ab Raho Tanha Koi Din Aur.

Zindagi Shayari – Best Shayari On Zindagi – Deep Life Shayari

दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई
दोनों को एक अदा में रजामंद कर गई

मारा ज़माने ने ‘ग़ालिब‘ तुम को
वो वलवले कहाँ , वो जवानी किधर गई

Dil Se Teri Nigaha Jigar Tak Utar Gai
Dono Ko Ek Ada Me Rajamand Kar Gai

Mara Jamane Ne Galib Tum Ko
Wo Walvley Kha, Vo Jawaani Kidhar Gai.

Awesome Hindi Shayari By Mirza Ghalib

सब ने पहना था बड़े शौक से कागज़ का लिबास
जिस कदर लोग थे बारिश में नहाने वाले

अदल के तुम न हमे आस दिलाओ
क़त्ल हो जाते हैं , ज़ंज़ीर हिलाने वाले

Sab Ne Pahna Tha Bade Sauk Se Kagaj Ka Libaas
Jis Kadar Log The Barrish Me Nahane Vale

Adl Ke Tum Ne Hme Aas Dilao
Katl Ho Jate Hai, Janjeer Hilane Vale.

तेरी दुआओं में असर हो तो मस्जिद को हिला के दिखा
नहीं तो दो घूँट पी और मस्जिद को हिलता देख

Teri Duao Me Asar Ho To Masjeed Ko Hila Ke Dekha
Nhi To Do Ghut Pee Aur Masjeed Ko Hilta Dekh.

बे-वजह नहीं रोता इश्क़ में कोई ग़ालिब
जिसे खुद से बढ़ कर चाहो वो रूलाता ज़रूर

Be-Wajha Nhi Rota Ishq Me Koi Ghalib
Jis Khud Se Badh Kar Chao Wo Rulata Zarur.

ग़ालिब के शेर ओ शायरी

सादगी पर उस के मर जाने की हसरत दिल में है
बस नहीं चलता की फिर खंजर काफ-ऐ-क़ातिल में है

देखना तक़रीर के लज़्ज़त की जो उसने कहा
मैंने यह जाना की गोया यह भी मेरे दिल में है

Sadgi Par Us Ke Mar Jaane Ki Hasrat Dil Me Hai
Bas Nhi Chalta Ki Phir Khnjar Kaaf-Ae-Katil Me Hai

Dekhne Takreer Ke Lajjat Ki Jo Usne Kha
Maine Yha Jana Ki Goya Yha Bhi Mere Dil Me Hai.

मिर्जा गालिब की दर्द भरी शायरी

फिर उसी बेवफा पे मरते हैं फिर वही ज़िन्दगी हमारी है
बेखुदी बेसबब नहीं ग़ालिब कुछ तो है जिस की पर्दादारी है

Phir Usi Bewafa Pe Marte Hai Phir Vhi Zindagi Hamari Hai
Bekhudi Besabab Nhi Ghalib Kuch To Hai Jis Ki Pardadari Hai.

ग़ालिब ने यह कह कर तोड़ दी तस्बीह.
गिनकर क्यों नाम लू उसका जो बेहिसाब देता है।

Ghalib ne yah kah kar tod dee tasbeeh.
Ginakar kyon naam loo usaka jo behisaab deta hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *