fulltoshayari.in

अपनी क़िस्मत में सभी कुछ था मगर फूल न थे तुम अगर फूल न होते तो हमारे होते

किस्मत शायरी

fulltoshayari.in

" क़िस्मत अजीब खेल दिखाती चली गई जो हँस रहे थे उन को रुलाती चली गई ..."

किस्मत शायरी

You will love 

fulltoshayari.in

ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार होता अगर और जीते रहते यही इंतिज़ार होता

किस्मत शायरी

fulltoshayari.in

आज बरसों में तो क़िस्मत से मुलाक़ात हुई आप मुँह फेर के बैठे हैं ये क्या बात हुई

किस्मत शायरी

fulltoshayari.in

वो भला पेच निकालेंगे मिरी क़िस्मत के अपने बालों के तो बल उन से निकाले न गए

किस्मत शायरी

fulltoshayari.in

बेवफ़ा लोगों में रहना तिरी क़िस्मत ही सही इन में शामिल मैं तिरा नाम न होने दूँगा

किस्मत शायरी

fulltoshayari.in

किसी को रश्क आए क्यूँ न क़िस्मत पर हमारी अब उजड़ आए हैं हर जानिब से बसना रह गया बाक़ी

किस्मत शायरी

fulltoshayari.in

क़िस्मत ने दूर ऐसा ही फेंका हमें कि हम फिर जीते-जी पहुँच न सके अपने यार तक

किस्मत शायरी